शिक्षा प्रभाव

पिछले तीन वर्षों में शिक्षा इनिशिएटिव ने 25000 छात्रों को प्रभावित किया है और इस दौरान 812 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षण भी उपलब्ध करवाया है, जिससे वह नयी तकनीकों के माध्यम से अपने पठन को अधिक प्रभावी बना सकते हैं| शिक्षा इनिशिएटिव 500 से ज्यादा विद्यालयों में काम करते हुए भारत को जिला दर जिला साक्षर करने में कार्यरत है|

0
विद्यालय
0
छात्र
0
अध्यापक
0
टीम के सदस्य

  शिक्षा इनिशिएटिव

शिक्षा इनिशिएटिव राज्य बोर्ड के पाठ्यक्रमपर आधारित, प्रौद्योगिकी की सहायता से प्राथमिक शिक्षा (कक्षा 1-5) में उच्च गुणवत्ता वाली आकर्षक पठनसामग्री के माध्यम से साक्षरता बढ़ाने का कार्यक्रम है| यह इंटरेक्टिव पठन सामग्री और समय-समय पर आकलनतथा शिक्षण को अधिक दिलचस्प, मजेदार और सीखने की प्रक्रिया को अत्यधिक प्रभावी बनाकर मौजूदा शैक्षिक चुनौतियों पर काबू पाने का प्रयास करता है।

आईसीटी के माध्यम से शैक्षणिक प्रक्रिया को अधिक प्रभावी करना

शिक्षकों को अभिनव मनोहन पठन तंत्र से लैस करना

कक्षा के वातावरण को ज्ञानार्जन के लिए और प्रभावशाली बनाना

शिक्षा को प्रोत्साहित करने के अलावा आवेदन संचालित ज्ञान पर ध्यान केंद्रित करवाना

  शिक्षा तंत्र

steps
कक्षा में छात्रों को शिक्षित करने के लिए और अपने मिशन में प्रभावी ढंग से निरक्षरता उन्मूलन करने के लिए शिक्षा इनिशिएटिव इन तीन चरणों का उपयोग करता है-

Use your own screenshot.

कार्यक्षेत्र की कहानियां

निरक्षरता का उन्मूलन और आजीवन शिक्षारत विद्यार्थी तैयार करना

3 साल पहले, अरविन्द“शिक्षा इनिशिएटिव”, शिव नाडर फाउंडेशन,के प्रयास से सूचना व संचार प्रौद्योगिकी आधारित शिक्षा के माध्यम से ग्रामीण स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता कोबदलने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश में संचालित शिक्षा इनिशिएटिवप्रोग्राम में शामिल हुए।

नाज़िया प्राथमिक विद्यालय मुठ्यानी के कक्षा-1 की छात्रा है। उसके माता-पिता दिहाड़ी मजदूर हैं, जिसका अर्थ यह है कि वह सरकारी स्कूल ही जा सकती है।आर्थिक अभाव के कारण वह उच्च गुणवत्तपूर्ण निजी स्कूलों में नहीं जा सकती। नाज़िया के लिए सरकारी स्कूल में अध्ययन करना मुश्किल हो रहा था।


शिव नाडर फाउंडेशन

shivnadarशिव नाडर फाउंडेशन – शिव नादर,जो कि एचसीएल (६.३ अरब डॉलर कीवैश्विक प्रौद्योगिकी और आईटी उद्यम संस्था) अध्यक्ष हैं, के द्वारा १९९४ में स्थापित की गयी थी|खुद शिक्षा से लाभान्वित होकर श्री नाडर शिक्षा के महत्व को न सिर्फ़ समझते हैं बल्कि समर्थन भी करते हैं कि जनसांख्यिकीय लाभांश लेने के लिए शिक्षा अति महत्वपूर्ण है| उनके नेतृत्व में फाउंडेशन मुख्य रूप से शिक्षा के उत्कृष्ट और प्रतिष्ठित संस्थानों कोबनाने पर ध्यान केंद्र कर रहा है।

पिछले 21 वर्षों से फाउंडेशन समावेशी शिक्षा को बढ़ावा देने, रोजगार बाजार की विशिष्ट आवश्यकताओं के लिए उच्च शिक्षा को अधिक प्रभावी और गुणवत्ता उन्मुख बनाने, अनुसंधान पर ध्यान केंद्रित करने और वैश्विक और राष्ट्रीय महत्व की शोध पर कार्यरत है|अपनी स्थापना के समय से ही फाउंडेशन नेमात्रा की जगह गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित किया है।इसका उद्देश्य है समाज के सबसे वंचित वर्गों में से हर क्षेत्र में अधिनायक बनाना।

आगे पढ़ें

पिछली घटनाएं

26,

अप्रैल 2016

प्राइमरी स्कूल माहेपाजागीर, सिकंदराबाद, में 26 अप्रैल 2016को "सर्व शिक्षा अभियान रैली"

अभिभावकों को स्कूल में अपने बच्चों को भेजने से होते लाभों के बारे में बताने के लिए, अक्सर गांवों में सामुदायिक गतिशीलता कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

आगे पढ़ें

12,

अप्रैल 2016

प्राइमरी स्कूल बारोस, सादाबाद, में 12 अप्रैल 2016को'स्कूल चलो अभियान' कार्यक्रम

एक महत्वपूर्ण समुदाय लामबंदी घटना “स्कूल चलो अभियान” रैली हाथरस जिले के सादाबादब्लॉक में प्राइमरी स्कूल बारोस में आयोजित किया गया था।

आगे पढ़ें